शुक्रवार, दिसंबर 02, 2016

कुछ भी कायम नहीं है, कुछ भी नहीं... 
...और जो कायम है, बस एक मैं हूँ,
मैं जो पल पल बदलता रहता हूँ...