शुक्रवार, दिसंबर 02, 2016

कुछ भी कायम नहीं है, कुछ भी नहीं... 
...और जो कायम है, बस एक मैं हूँ,
मैं जो पल पल बदलता रहता हूँ... 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मेरे ब्लॉग पर आ कर अपना बहुमूल्य समय देने का बहुत बहुत धन्यवाद ..